Kitchentips

घर पर ही उगाएँ इलायची का पौधा।How to grow Cardamom plant from seed

आमतौर पर घर पर लोग शो पीस वाले पौधे या फिर फूलों को लगाना पसंद करते है, क्योंकि यह घर की खूबसूरती को बढ़ाते है.

हालांकि अगर आपको गार्डेनिंग में दिलचस्पी है, तो कुछ ऐसे पौधे को भी घर में जगह दी जा सकती है जो बेहद काम के है.

हम बात कर रहे है इलाइची की जिसे आप घर में एक गमले में आसानी से उगा सकती है, इलाइची का पौधा बहुत बड़ा नहीं होता इसलिए इसे उगाने के लिए गमले का भी उपयोग किया जा सकता है, मैं आपसे छोटी इलाइची लगाने की प्रकिया के बारे में बता रही हुं जो काफी महंगी आती है बाजार में और ये किसी भी डेजर्ट रेसिपीज में या माउथ फ्रेशनर के तौर पर इस्तेमाल की जाती है.

आप या इलाइची का बाजार से ले सकते है या इसके बीज से भी इसे उगा सकते है, हालाकि किराने की दुकान पर मिलने वाले बीज सूखे हुए होते है, जिस से पौधा नहीं उगाया जा सकता है.

अगर आप बीजों के इस्तेमाल से इलाइची का पौधा लगाना चाहते है तो नए बीज खरीद कर लाए जो आसानी से मिट्टी में जाते ही अंकुरित हो जाते है और फल भी जल्दी आ लगते इसलिए आप इलाइची के बीज नर्सरी से या ऑनलाइन मंगाए, साथ ही इसकी क्वालिटी का ध्यान रखे.

* गमले में मिट्टी के साथ इन चीजों को मिलाए

स्टेप -1 अगर आप पहली बार इस तरह का कोई पौधा लगा रही हैं तो मार्केट से बीज लेकर आएं और उसे एक चम्मच पानी में सोक होने के लिए रखें, अब एक गमले में लाल और काली मिट्टी मिक्स कर दें, अगर आपके पास लाल मिट्टी नहीं है तो गोबर और कोको पीट का इस्तेमाल कर सकते हैं, इन चीजों को अच्छी तरह मिक्स करें.

इस दौरान ध्यान रखें कि मिट्टी साफ हो उसमें कीड़े-मकोड़े ना हों. मिट्टी में पानी का छिड़काव करें और फिर बीज को अंदर डाल दें, अब ऊपर से थोड़ी मिट्टी और कोको पीट मिक्स करें, फिर पानी छिड़कें.

* इलाइची के पौधे को लगाने में लगने वाला समय

स्टेप -2 पौधा अंकुरित होने में 4-5 दिन का समय लग जाता है,यह बीज पर निर्भर करता है, इसलिए हमेशा नए बीज ही ले. पौधा जब अंकुरित हो जाए तो उस से छेड़ छाड़ न करें, बल्कि सुबह और शाम सीमित मात्रा में पानी का छिड़काव करते रहे, वही जब तक बीज अंकुरित होकर बाहर नहीं निकल आता तब तक इसका ध्यान रखना होगा लगभग 1 महीने में इलाइची का पौधा अच्छी तरह निकल आता है.

* रोजाना सुबह के वक्त 2-3 घंटे तक इसको धूप में रखें, ऐसा तब करना है जब गमले में बीज अंकुरित हो कर पौधे के रूप में निकल न आए, अगर अभी भी बीज है तो उसे बाहर छांव में ही रखे.

* शुरुआत में गमले में खाद के तौर पर गमले में गोबर के अलावा किसी अन्य चीज का इस्तेमाल करे, जब पौधा थोड़ा बड़ा होने लगे तो घरेलू चीज जैसे चाय पत्ती, सुखा नारियल का छिलका और प्याज के छिलके खाद के तौर पर यूज कर सकते है.

* गर्मियों में इसे सुबह शाम नियमित पानी देने की आवश्यकता होती है, वही इस बात का ध्यान रखें इलाइची का पौधा बीज से लगाना मुश्किल होता है, इसलिए खास ध्यान देने की जरूरत होती है.

* इलाइची उगाने के लिए मीडियम साइज का गमला ले, जो न ज्यादा बड़ा हो न ज्यादा छोटा अब मिट्टी में एक उंगली के बराबर गड्ढा करे और फिर बीज डाल दे, इसके बाद कुछ दिन इंतजार करे.

* जल्दबाजी न करें – अगर आपको लगता है की इलाइची का पौधा लगाने के बाद फल तुरंत मिलने लगेगा तो ऐसा नहीं है, इसके लिए आपको इंतजार करना पड़ेगा, अगर आपका पौधा सही से ग्रो कर रहा है तो उसमें फल आने में 3-4 साल लग जाएंगे, इसलिए इसकी देख रेख करें, इलाइची का पौधा लंबे समय तक जीवित रहता है, मुख्य तौर पर केरल में इसकी खेती की जाती है, क्योंकि यहां की जमीन छायादार होती है, जो इलाइची के खेती के अनुकूल होती है, बारिश के मौसम में इलाइची का पौधा उगाना बेस्ट माना जाता है, इसलिए इसके विकास के लिए छाया दार जगह ही चुनें.

आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इस जानकारी को अपने मित्रो के साथ जरूर शेयर करें, हमारे पेज इंडिया का तड़का से जुड़े रहने के लिए धन्यवाद.

video-Tips theater

LEAVE A RESPONSE

error: Content is protected !!